पाठकों से निवेदन

इस ब्लोग पर तंत्र, मंत्र, ज्योतिष, वास्तु व अध्यातम के क्षेत्र की जानकारी निस्वार्थ भाव से मानव मात्र के कल्याण के उद्देश्य से दी जाती है तथा मैं कोई भी फीस या चन्दा स्वीकार नहीं करता हुं तथा न हीं दक्षिणा लेकर अनुष्ठान आदि करता हुं ब्लोग पर बताये सभी उपाय आप स्वंय करेगें तो ही लाभ होगा या आपका कोई निकट संबधी निस्वार्थ भाव से आपके लिये करे तो लाभ होगा।
साईं बाबा तथा रामकृष्ण परमहंस मेरे आदर्श है तथा ब्लोग लेखक सबका मालिक एक है के सिद्धान्त में दृढ़ विश्वास रखकर सभी धर्मों व सभी देवी देवताओं को मानता है।इसलिये इस ब्लोग पर सभी धर्मो में बताये गये उपाय दिये जाते हैं आप भी किसी भी देवी देवता को मानते हो उपाय जिस देवी देवता का बताया जावे उसको इसी भाव से करें कि जैसे पखां,बल्ब,फ्रिज अलग अलग कार्य करते हैं परन्तु सभी चलते बिजली की शक्ति से हैं इसी प्रकार इश्वर की शक्ति से संचालित किसी भी देवी देवता की भक्ति करना उसी शाश्वत निराकार उर्जा की भक्ति ही है।आपकी राय,सुझाव व प्रश्न सीधे mckaushik00@yahoo.co.in (read 00 as zero zero) पर मेल कीये जा सकते है।

Sunday, December 12, 2010

भूत देखने के लिये प्रयोग


आप भूत प्रेत नहीं मानते हो तों एक सरल सा प्रयोग मैं आपको बता देता हूं ताकि आप भूत जी के दर्शनों का लाभ उठा सकें यह प्रयोग मुझे एक तांत्रिक ने बताया था परन्तु मैने कभी करके नहीं देखा।
इसलिये इसकी सत्यता की गारन्टी मैं नहीं दे सकता पर करने वाले हिम्मती व जिज्ञासु व्यक्ति कमेंटस में अवश्य बतायें कि उन्हे भूत श्री के दर्शन हुये या नहीं।
घोड़े की ताजी लीद लेकर उसमें रूई लपेट कर बती बनायें तथा तिल के तेल में अन्धेरे स्थान में रात्रि 10 से 2 के बीच इसका दीपक जलाएं जंहा तक दीपक का प्रकाश जावेगा वहां तक विविध भुत प्रेत दिखायी देगें।
इनसे आपको वैसे तो कोई खतरा नहीं होगा क्यों की सुक्ष्म आत्माएं वैसे भी हमारे चारों तरफ रहती है परन्तु साधारण नेत्रों से दिखायी नहीं देती फिर भी आपका दिल कमजोर हुआ तथा कुछ हो गया तो लेखक की कोई जिम्मेदारी नहीं है यात्री अपनी जोखिम पर यात्रा करे।

Featured Post

भूत देखने के लिये प्रयोग

आप भूत प्रेत नहीं मानते हो तों एक सरल सा प्रयोग मैं आपको बता देता हूं ताकि आप भूत जी के दर्शनों का लाभ उठा सकें यह प्रयोग मुझे एक तांत्रिक ...

Google+ Followers