पाठकों से निवेदन

इस ब्लोग पर तंत्र, मंत्र, ज्योतिष, वास्तु व अध्यातम के क्षेत्र की जानकारी निस्वार्थ भाव से मानव मात्र के कल्याण के उद्देश्य से दी जाती है तथा मैं कोई भी फीस या चन्दा स्वीकार नहीं करता हुं तथा न हीं दक्षिणा लेकर अनुष्ठान आदि करता हुं ब्लोग पर बताये सभी उपाय आप स्वंय करेगें तो ही लाभ होगा या आपका कोई निकट संबधी निस्वार्थ भाव से आपके लिये करे तो लाभ होगा।
साईं बाबा तथा रामकृष्ण परमहंस मेरे आदर्श है तथा ब्लोग लेखक सबका मालिक एक है के सिद्धान्त में दृढ़ विश्वास रखकर सभी धर्मों व सभी देवी देवताओं को मानता है।इसलिये इस ब्लोग पर सभी धर्मो में बताये गये उपाय दिये जाते हैं आप भी किसी भी देवी देवता को मानते हो उपाय जिस देवी देवता का बताया जावे उसको इसी भाव से करें कि जैसे पखां,बल्ब,फ्रिज अलग अलग कार्य करते हैं परन्तु सभी चलते बिजली की शक्ति से हैं इसी प्रकार इश्वर की शक्ति से संचालित किसी भी देवी देवता की भक्ति करना उसी शाश्वत निराकार उर्जा की भक्ति ही है।आपकी राय,सुझाव व प्रश्न सीधे mckaushik00@yahoo.co.in (read 00 as zero zero) पर मेल कीये जा सकते है।

Sunday, April 3, 2011

चैत्र नवरात्री में श्री देव्यथर्वशीर्ष की प्रभावकारी साधना



सर्वप्रथम अपने पाठकों से इस लेख को लिखने में हुये विलम्ब के लिये क्षमा चाहता हुं क्यों कि आज से चैत्र नवरात्रा प्रारंभ हो चुके हैं तथा सभंव है जब तक मेरे कुछ पाठक इस ब्लोग को पढ पावें तब तक दुसरा या तीसरा नवरात्रा आ जावे खैर उनके लिये भी मैं उपाय बताउंगा जो इस साधना को प्रथम नवरात्रा से नहीं कर सकेगें।
श्री देव्यथर्वशीर्ष को अथर्ववेद से लिया गया है अथर्ववेद में इसकी बड़ी भारी महिमा बतायी


गयी है इसके जाप से देवी की कृपा इतनी शीघ्र प्राप्त होती है कि साधक आश्चर्यचकित हो उठता है।
इस देव्यथर्वशीर्ष के जाप से पांचों अथर्वशीर्ष के जाप का फल मिलता है असल में वेदों में हिन्दुओं के पांच प्रमुख देवता माने गये हैं गणेश , दुर्गा , शिव , सुर्य व विष्णु अतः इन पांचों देवताओं के अलग अलग अथर्वशीर्ष बताये गये हैं परन्तु देवी के अथर्वशीर्ष के जाप से इन पांचों का फल प्राप्त होता है।
इसका सांयकाल में अध्ययन करने से दिन भर किये हुये पापों से मनुष्य मुक्त हो जाता है तथा दिन में अध्ययन करने से रात्रि में किये हुये पापों से मुक्त हो जाता है। असल में गीता में कहा गया है कि जैसे अग्नि में धुआं रहता है वैसे सभी कर्मों में पाप रहता है आप सड़क पर चलते हैं तो भी छोटे जीव जन्तु जाने अनजाने में आपसे दबकर मरते रहते हैं नौकरी करते हैं तो भी जाने अनजाने में दुसरों की निन्दा झूठ बोलना आदि कर्म परवश हो जाते हैं इनके कारण संचित हुआ पाप ही सभी दुखों का मूल है जिसके बीज चाहे इस जाप से नष्ट हो जाते हैं यहि इसका तात्पर्य है।
इसका दस बार जाप करने से मनुष्य इस जन्म के संचित कर्मों से मुक्त हो जाता है तथा 108 बार जाप करने से पिछले सभी जन्मों के संचित बीज जल जाते है।
स इसका ही सरल सा अनुष्टान करना है मैं ज्यादा जटिलता से पूजा करना नहीं बताता बस माता की प्रतिमा के आगे देसी घी का दीपक लगाएं घूप लगाएं तथा इस लिन्क से गीताप्रेष गोरखपुर की मूल दुर्गासप्तशती डाउनलोड कर लेवें इसमें पेज सं 44 पर श्री देव्यथर्वशीर्ष दिया है
जिसका हिन्दी अर्थ पहले पढ़ कर समझ लेवें कि आप देवी की किस रूप में उपासना करने जा रहें है इसके पश्चात पाठ संस्कृत में ही करना है उच्चारण गलत करने से भी कोई दोष नहीं है क्यों कि आपको छ बार सुबह व छ बार शाम को कुल बारह पाठ प्रतिदिन के हिसाब से कुल 108 पाठ इन नवरात्रा में करने हैं जो लोग इस लेख को विलम्ब से पढ रहें हैं वे उस हिसाब से संख्या बढ़ा लेवें कि 9 दिन में 108 पाठ पुरे हो जावें।
इसलिये जब तक आपके 108 पाठ पुरे होगें तब तक माता की कृपा से आपका उच्चारण अपने आप शुद्व हो जावेगा आपका पहला पाठ अनाड़ी संस्कृत ज्ञानी की तरह होगा परन्तु 108 वां पाठ पंडित की तरह होगा प्रयास करके देखिए यह पहला चम्तकार है।
इस उपासना के दौरान जो स्वप्न या प्रत्यक्ष अनुभव हों वे किसी को नहीं बता सकते परन्तु पति पत्नी आपस में बता सकते हैं उसकी मनाही नहीं है। हमारे कमेंटस में इतना जरूर बता देवें कि आपने यह उपासना की तो आपको लाभ हुआ या व्यर्थ गयी।

Featured Post

भूत देखने के लिये प्रयोग

आप भूत प्रेत नहीं मानते हो तों एक सरल सा प्रयोग मैं आपको बता देता हूं ताकि आप भूत जी के दर्शनों का लाभ उठा सकें यह प्रयोग मुझे एक तांत्रिक ...

Google+ Followers