पाठकों से निवेदन

इस ब्लोग पर तंत्र, मंत्र, ज्योतिष, वास्तु व अध्यातम के क्षेत्र की जानकारी निस्वार्थ भाव से मानव मात्र के कल्याण के उद्देश्य से दी जाती है तथा मैं कोई भी फीस या चन्दा स्वीकार नहीं करता हुं तथा न हीं दक्षिणा लेकर अनुष्ठान आदि करता हुं ब्लोग पर बताये सभी उपाय आप स्वंय करेगें तो ही लाभ होगा या आपका कोई निकट संबधी निस्वार्थ भाव से आपके लिये करे तो लाभ होगा।
साईं बाबा तथा रामकृष्ण परमहंस मेरे आदर्श है तथा ब्लोग लेखक सबका मालिक एक है के सिद्धान्त में दृढ़ विश्वास रखकर सभी धर्मों व सभी देवी देवताओं को मानता है।इसलिये इस ब्लोग पर सभी धर्मो में बताये गये उपाय दिये जाते हैं आप भी किसी भी देवी देवता को मानते हो उपाय जिस देवी देवता का बताया जावे उसको इसी भाव से करें कि जैसे पखां,बल्ब,फ्रिज अलग अलग कार्य करते हैं परन्तु सभी चलते बिजली की शक्ति से हैं इसी प्रकार इश्वर की शक्ति से संचालित किसी भी देवी देवता की भक्ति करना उसी शाश्वत निराकार उर्जा की भक्ति ही है।आपकी राय,सुझाव व प्रश्न सीधे mckaushik00@yahoo.co.in (read 00 as zero zero) पर मेल कीये जा सकते है।

Sunday, July 10, 2011

केमिकल लोचा-सांई बाबा मुझसे बोले ???? पार्ट द्वितीय


पिछले अंक में आपने पढ़ा कि किस प्रकार मैं अनेक मुसीबतों से एक साथ घिर गया तथा अपने आप को बहुत बड़ा भगवान का भक्त समझने वाला मैं घबरा उठा पिछले अंक को पुनः पढने के लिये इस लिकं पर जाईये

Sai Baba mujhse Bole Part 1

बरहाल स्थिति को समझने के लिये मैं मेरे नये पदस्थापन स्थान के कुछ चित्र इस ब्लोग पोस्ट पर डाल रहा हूं ताकि आपको सही सही अंदाजा हो जावे कि मेरे पदस्थापन स्थान के हालात किस प्रकार के थे। 
मेरा मूल कार्य वसूली से संबधित है हालांकि यह कार्य मेरे स्वभाव से मेल नहीं खाता पर मेरी आजीविका इसी प्रकार की है टी.आर.ए को विभिन्न सरकारी बकाया बैंको के लोन वित निगमों के लोन जो नहीं चुकाते उन भले लोगों से वसूली करनी पड़ती है साथ ही किसानों से लगान व लोन आदि की वसूली पर नियत्रंण का कार्य टी.आर.ए के पास होता है इसलिए मेरे नवपदस्थापन पर कार्य ग्रहण करने के बाद एक तरफ तो मैं बुरी तरह बीमार होकर काम नहीं कर पा रहा था क्यों कि इस स्थान की विशेषता यही थी कि यहां जो आया वो या तो बीमार होकर उपर चला गया या अस्पतालों में सड़ता रहा यहां आने के कुछ ही समय बाद इसी अभिशाप के चलते मुझे अस्पताल में दाखिल होना पड़ा तथा फिर मेरे कूल्हे पर अनेक फुंसिया व दर्द तथा पीप से भरे फोड़े हो गये जिन पर जितने भी एंटीबायोटिक मैं जानता था असर नहीं कर रहे थे।
इसी बीच एक घटना ओर हो गयी एक भले आदमी 735 लाख रूपये पंजाब सरकार से उधार लेकर डिफाल्टर होकर आ गये जिनसे वसूली का दायित्व मुझे दे दिया गया मैने वसूली हेतु कुर्की कार्यवाही करने का नोटिस जारी कर दिया जिससे उनकी तरफ से अनेक प्रकार की खतरनाक व घातक अप्रत्यक्ष धमकिंया मुझे मिलने लगी। 
जिससे मेरे बॉस व सहकर्मि भी डरकर असहयोग करने लगे अब केमिकल लोचे पर वापस आते हैं।
यहां में एक बात रहस्य ही रखना चाहुगां कि यह केमिकल लोचा प्रत्यक्ष था या सपना था? सच था या झूठी कहानी है? केवल मन में उठे विचार है या उससे उपर का कोई स्तर है साथ ही कुछ अशों को मैने संपादित भी कर दिया है।इसलिये इन सब का निर्णय पाठक स्वंय कर लेवें ।
तो एक दिन ज्यादा चीख पुकार मचाने पर केमिकल लोचा हो ही गया सांई बाबा मुझसे बोले
क्यों व्यर्थ पुकार मचा रहा है तुझे क्या संकट है वस्तुतः यह सब दुख तेरे मन की स्थिति से बने हुये हैं?
 सभी रोगों का मूल कारण आहार विहार में अनियमितता व पूर्व जन्म के पापों का फल है।
अब मुझे विश्वास हो गया कि यह केमिकल लोचा ही है क्यों कि दोनों बातें कैसे संभव है या तो मेरा रोग आहार विहार से हुआ है या पूर्व जन्म के पापों से अतः मैने निवेदन किया कि आप एक बात बताएं दोहरे अर्थ की बातों से तो मैं ओर भी कन्फयूज हो रहा हूं।
बाबा ने कहा वस्तूत पूर्व जन्म या इस जन्म के पापकर्म ही सभी दुखों का मूल होते हैं परन्तु अकेले इनसे रोग नहीं होते यह पापकर्म मन में आहार विहार गलत करने की इच्छा उत्पन्न कर देता है तूं याद कर कि विगत मौसम में तैने लगभग रोज आम व आईसक्रीम तथा सरसों के तेल का सेवन किया है इसके परिणाम से यह फोड़े फुंसिंया है अब सभी प्रकार का मीठा खाना कुछ दिन तक त्याग कर तथा सरसों के तेल से बने प्रदार्थ का त्याग कर फिर एंटीबायोटिक का प्रयोग कर तो नई फुंसिया होनी बंद हो जावेगी।
अपने आप को कर्ता मानना बंद कर तथा ईश्वर की इच्छा से स्वतः होने वाले कर्मों को कर अंहकार का परित्याग करके तुं अपना कार्य इमानदारी से कर फिर कोई बात होगी तो मुझे देखनी है।
शेष अगले अंक में।
अगला भाग पढने के लिये निम्न लिंक पर जावें:-
केमिकल लोचा-सांई बाबा मुझसे बोले ???? पार्ट तृतीय




No comments:

Post a Comment

Please give your comments to improve our work and any query about this article we try to reply all comments by follow up comments.
आपके कमेंटस मेरे कार्य में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

Featured Post

भूत देखने के लिये प्रयोग

आप भूत प्रेत नहीं मानते हो तों एक सरल सा प्रयोग मैं आपको बता देता हूं ताकि आप भूत जी के दर्शनों का लाभ उठा सकें यह प्रयोग मुझे एक तांत्रिक ...