पाठकों से निवेदन

इस ब्लोग पर तंत्र, मंत्र, ज्योतिष, वास्तु व अध्यातम के क्षेत्र की जानकारी निस्वार्थ भाव से मानव मात्र के कल्याण के उद्देश्य से दी जाती है तथा मैं कोई भी फीस या चन्दा स्वीकार नहीं करता हुं तथा न हीं दक्षिणा लेकर अनुष्ठान आदि करता हुं ब्लोग पर बताये सभी उपाय आप स्वंय करेगें तो ही लाभ होगा या आपका कोई निकट संबधी निस्वार्थ भाव से आपके लिये करे तो लाभ होगा।
साईं बाबा तथा रामकृष्ण परमहंस मेरे आदर्श है तथा ब्लोग लेखक सबका मालिक एक है के सिद्धान्त में दृढ़ विश्वास रखकर सभी धर्मों व सभी देवी देवताओं को मानता है।इसलिये इस ब्लोग पर सभी धर्मो में बताये गये उपाय दिये जाते हैं आप भी किसी भी देवी देवता को मानते हो उपाय जिस देवी देवता का बताया जावे उसको इसी भाव से करें कि जैसे पखां,बल्ब,फ्रिज अलग अलग कार्य करते हैं परन्तु सभी चलते बिजली की शक्ति से हैं इसी प्रकार इश्वर की शक्ति से संचालित किसी भी देवी देवता की भक्ति करना उसी शाश्वत निराकार उर्जा की भक्ति ही है।आपकी राय,सुझाव व प्रश्न सीधे mckaushik00@yahoo.co.in (read 00 as zero zero) पर मेल कीये जा सकते है।

Friday, April 7, 2017

फल की इच्छा से मुक्त होकर अपना कर्म करिये

   ज्यादातर लोग अपना कर्म भगवान के लिये न करके नौकरी बचाये रखने के लिये, बॉस की खुशी के लिये, पैसे कमाने के लिये करते हैं आपको कर्म वही करना है बस नजरिया चेंज करना है कि आप कर्म कंपनी नौकरी बॉस या पैसे के लिये न करके भगवान के लिये कर रहें हैं। 

 इसे ही निष्काम कर्म कहते हैं अर्थात् आप अपने कर्म को पुरस्कार या लाभ की आशा से मत किजिये आप अपने कार्य को कुशलता से भगवान का कार्य मानकर भगवान को खुश करने के लिये किजिये बॉस की चापलुसी करना बंद करके भगवान को अपना बॉस मानिये बॉस से पदोन्नति पुरस्कार व सम्मानित होने की आशा का त्याग कर दीजिये क्यों कि आप उस सर्वशक्तिमान ईश्वर के लिये जब कार्य करेगें तो आपको नाशवान दुनिया के झूठे व काल्पनिक पुरस्कारों व सम्मान प्राप्ति के लिये अपना खुन जलाने की आवश्यकता नहीं है क्यों कि जब आप इन पुरस्कारों व सम्मान की आशा त्याग देगें तो भगवान की तरफ से मिलने वाले पुरस्कार आपको दंग कर देगें।
  अतः आपको फल की इच्छा से सकाम कर्म नही करना चाहिए कोई भी कर्म मात्र ईश्वर की इच्छा मान कर ईश्वर के निमित करना चाहिए। अपने सभी कर्मो को भगवान के लिये सम्पूर्ण कुशलता से पूरा करने वाला कर्मो के बंधन से मुक्त हो जाता है। 
   अतः कर्म योग में कर्मो के फलो को त्याग कर व्यक्ति जन्म मरण के बंधन से छुटकर अमृतमय परमपद (मोक्ष) को प्राप्त होता है। अपने धर्म का पालन करते हुए और कर्तव्य कर्म का आचरण करते हुए यदि युद्ध जैसी विकट परिस्थिति भी उत्पन्न हो जावे तब सुख-दुःख, लाभ-हानि, विजय- पराजय का विचार किये बिना युद्ध भी किया जाना उचित है। 
   अर्थात् आप यदि अपना कर्म भगवान के लिये निस्वार्थ भाव से कर रहें है तथा आप पर कोई लांछन लगाता है या आप पर गलत आरोप लगाता है या आपको प्रताड़ित करने या आपका शोषण करने का प्रयास करता है तो उसे करारा जबाब देना भी आपका दायित्व है क्यों कि गीता आपको कायरता नहीं सिखाती है कायरता तो कामचोर व आलसी लोग दिखाते हैं आप अन्याय अत्याचार व शोषण के विरूद्ध निस्वार्थ भाव से आवाज उठाते हैं तो ईश्वर से प्राप्त सहायता के कारण आपको विजय भी मिलेगी। 
ये अंश मैने मेरी नयी पुस्तक "गीताज्ञान से मन की सुप्त शक्तियों को जागृत कैसे करें?" में से लिये हैं आपको यदि इस ज्ञान में रूचि उत्पन्न हुयी हो तो आप निम्न लिंक से मेरी नयी पुस्तक "गीताज्ञान से मन की सुप्त शक्तियों को जागृत कैसे करें?"ले सकते हैंः-
   
भारत में ई बुक के लिये लिंकः-http://amzn.to/2oQYrG9
भारत में पेपरबैक पुस्तक के लिये लिंकः-Gita Gyan Paperback from Pothi
अमेरिका (USA) or Canada में ई बुक के लिये लिंकः-http://amzn.to/2p9P0Bc
अमेरिका में पेपरबैक पुस्तक के लिये लिंकः-http://amzn.to/2nSJTF7
यूरोप में ई बुक के लिये लिंकः-http://amzn.to/2nm4vJN
यूरोप में छपी हुयी पुस्तक के लिये लिंकः-http://amzn.to/2oRaK5u
अन्य किसी भी देश में के लिये लिंकः-http://amzn.to/2nSJTF7

Featured Post

भूत देखने के लिये प्रयोग

आप भूत प्रेत नहीं मानते हो तों एक सरल सा प्रयोग मैं आपको बता देता हूं ताकि आप भूत जी के दर्शनों का लाभ उठा सकें यह प्रयोग मुझे एक तांत्रिक ...

Google+ Followers